4 Apr : Plastic heart did dhak…dhak…

15well_heart-blog480.jpg
Plastic heart or the Artificial heart did dhak…dhak for the first time today in 1969.

It was transplanted in a patient Haskell Carp’s chest by Surgeons Domingo Liotta and Denton Cooley on April 4, 1969 in Houston. The operation was successful and the heart remained in place and worked properly. They removed the artificial heart 64 hours later when a donor heart became available. Unfortunately the patient died two days later but helped the world know the feasibility of artificial organs transplant.

Listen to Cardiovascular surgeon Dr. Denton Cooley, who transplanted the first artificial heart in a patient successfully.

The plastic heart, called the Liotta-Cooley Artificial Heart after its inventor, Dr. Domingo Liotta, and the surgeon who implanted it, Dr. Denton Cooley, is now among the 137 million artifacts, works of art and specimens in the collection of the Smithsonian Institution in Washington.

#Hindi
दिल को शरीर का सबसे ज़रूरी अंग माना जाता है… क्योंकि जब ये काम करना बंद कर दे तो समझो जीवन खत्म। इसलिए जब किसी का दिल ट्रांस्प्लांट करने का मौका आया तो डॉक्टरों ने बिना देरी किए एक आर्टिफिशियल दिल शरीर में लगा दिया। अगर किसी डोनर का इंतज़ार करते तो शायद मरीज़ को बचाना नामुमकिन हो जाता। मजबूरी में ही सही, पहली बार किसी आर्टिफिशियल दिल को इंसान के शरीर में लगाया गया था। हालांकि चौसठ घंटे बाद जब डोनर दिल उपलब्ध हुआ तो आर्टिफिशियल दिल निकालकर वो दिल लगा दिया गया। लेकिन आर्टिफिशियल दिल लगाने और उससे चौसठ घंटों तक जीवन चलने की सफलता ने मेडिकल साइंस के अध्याय में एक सुनहरी कड़ी जोड़ दी। इस आर्टिफिशियल दिल का नाम था Liotta-Cooley heart। इसे Dr. Domingo Liotta ने बनाया था और Dr. Denton Cooley ने इसे इंसान के शरीर में फिट किया था। इन दोनों के नाम पर ही इस आर्टिफिशियल दिल का नाम पड़ा।