4 March : First blood test for AIDS detection

AIDS (Acquired Immuno Deficiency Syndrome) detection was not possible before today in 1985. The US Food and Drug Administration (FDA) licenses the first commercial blood test Elisa, to detect antibodies of HIV in blood. Blood banks begin screening the U.S. blood supply. The cost of this blood test was $6, each time it was administered.

This happened just an year before AIDS entered India. In 1986, the first known case of HIV was diagnosed by Dr. Suniti Solomon amongst female sex workers in Chennai, Tamil Nadu. By 1987, about 135 more cases came to light. Among these 14 had already progressed to AIDS.

AIDS, even today has no cure. But, there are treatments for people living with HIV/AIDS. If you have HIV/AIDS, you can take combinations of medicines called "cocktails." The drug cocktails are designed to strengthen the immune system to keep HIV from developing into AIDS or to relieve AIDS symptoms.

1. Globally about 36.9 million people are living with HIV including 2.6 million children
2. An estimated 2 million were infected in 2014
3. An estimated 34 million people have died from HIV or AIDS, including 1.2 million in 2014
4. The number of adolescent deaths from AIDS has tripled over the last 15 years
5. AIDS is the number one cause of death among adolescents in Africa and the second among adolescents globally
6. In sub-Saharan Africa, the region with the highest prevalence, girls account for 7 in 10 new infections among those aged 15-19
7. At start of 2015, 15 million people were receiving antiretroviral therapy compared to 1 million in 2001
8. Despite widespread availability of HIV testing, only an estimated 51 percent of people with HIV know their status
9. The global response to HIV has averted 30 million new HIV infections and nearly 8 million deaths since 2000
10. In 2015, Cuba was the first country declared to have eliminated mother-to-child transmission of HIV

1200px-Red_Ribbon.svg.pngThe red ribbon is used as the symbol for the solidarity of people living with HIV/AIDS. 

#Hindi 
AIDS एक लाइलाज बीमारी है। पिछले कुछ सालों में सरकारी विज्ञापनों की मदद से हमने ये बात जानी है। भारत में AIDS का पहला केस 1986 मे आया था, जब चेन्नई और तमिलनाडु के सेक्स वर्कर्स की जांच की गई थी। डॉ सुनिति सोलोमन ने इस बारे में पहली बार जानकारी दी थी। एक ही साल के अंदर ऐसे 135 मामले सामने आए, जिनमें से 14 को AIDS की कैटेगरी मोें रखा गया था।
ये तो हुई भारत की बात, लेकिन भारत से पहले ये बीमारी दुनिया के दूसरे हिस्सों में फैल चुकी थी। क्या आप जानते हैं कि इसका पता पहली बार कहां, कब और कैसे लगा ? दरअसल 1985 में आज से पहले AIDS के बारे में किसी को कुछ पता ही नहीं था। US Food and Drug Administration (FDA) ने पहली बार ‘एलिसा’ नाम का एक ब्लड टेस्ट कराया था जिससे खून में HIV के संक्रमण का पता लगाया जा सके। इसके बाद ब्लड बैंक में मौजूद ब्लड की स्क्रीनिंग शुरु कर दी गई थी। हर बार इस ब्लड टेस्ट को कराने के लिए 6 डॉलर देने होते थे।
आज भी इस बीमारी का कोई इलाज नहीं है। हां, एहतियात बरतने से आप इस जानलेवा बीमारी से बच सकते हैं। लेकिन वो लोग जो इसका शिकार हो चुके हैं उनके लिए कुछ दवाइयां है जिससे वो जीवन भर इस बीमारी के साथ भी रह सकते हैं। इन दवाइयों का एक पूरा समूह है, जिसे कॉकटेल की तरह दिया जाता है। यानी बहुत सारी दवाइयों का मिश्रण, जो आपको इस जानलेवा बीमारी से पूरी तरह ठीक तो नहीं कर सकता लेकिन HIV को पूरी तरह AIDS नहीं बनने देता है, लिहाज़ा आपको जीने का मौका ज़रूर मिल जाता है।