28 Jan : All challenges left behind by ‘Challenger’

challenger
7 crew members aboard Challenger lost their lives

Just 73 seconds after the launch of Challenger on 28 January 1986, a booster engine failed leading to disintegration of Shuttle Challenger killing all 7 crew members aboard. This was a sad yet eye opening incident in the history of space exploration.


It was later determined that cold weather, combined with a design flaw, led to the accident. It is believed that Nasa engineer tried to stop the launch. It seemed as if they knew that it’s going to blow up.

img_1448-edit_custom-5f2cc7496ab046fe5bcbf0beeb065b30afc308b6-s800-c15
7 crew members aboard Challenger lost their lives

After the accident, NASA’s Space Shuttle programme was grounded for almost three years. Later in 1988, Space shuttle Discovery lifted off from the Kennedy Space Centre with a crew off five.

#Hindi 
एक छोटी सी भूल… और सात ज़िंदगियां खत्म… या यूं कहें कि अंतरिक्ष के बारे में जानकारी हासिल करने की चुनौती और ज़्यादा बढ़ गई। ‘चैलेंजर’ ने चुनौतियों का पहाड़ खड़ा कर दिया। लॉन्च होने के बाद महज़ 73 सेकंड के अंदर ही चैलेंजर तबाह हो गया। इसकी वजह था ठंडा वातावरण और डिज़ाइन में एक छोटी सी गड़बड़। ऐसा भी कहा जाता है कि यान के इंजीनियर को इस बात का अंदाज़ा पहले से ही था, लिहाज़ा इस दुर्घटना के बाद से से यान के प्रोग्रामर को 3 साल के लिए गायब कर दिया गया था। इसके बाद 1988 में 5 क्रू मेंमबर्स के साथ स्पेस यान डिस्कवरी को केनेडी स्पेस सेंटर से लॉन्च किया गया।