29 Dec : The birth of nanotechnology via a speech

#The branch of technology that deals with dimensions and tolerances of less than 100 nanometres, especially the manipulation of individual atoms and molecules.

Nanotechnology is very much in use today. It was simply a term used in a speech.
Physicist Richard Feynman gave a speech today in 1959, entitled ‘There’s Plenty of Room at the Bottom’, where he used this term for the very first time and this is regarded as the birth of nanotechnology.


Irony was, the talk went unnoticed. It was rediscovered in the 1990s and today used in medicines to space research.

#Hindi
कभी-कभी हम किसी चीज़ को पहली बार में समझ नहीं पाते हैं… और कुछ समय बाद जब अचानक वो चीज़ हमारे सामने आती है तो हमें लगता है कि ये तो हमने पहले कहीं देखा, पढ़ा या सुना है… कुछ ऐसा ही हुआ nanotechnology के साथ… 1959 में आज ही के दिन American Physical Society में दिए गए एक भाषण में nanotechnology की नींव रखी गई थी। Physicist Richard Feynman ने अणुओं यानी atoms के साथ प्रयोग करने की बात दुनिया के सामने कही थी। तब किसी ने इस पर ध्यान नहीं दिया… और आज nanotechnology का इस्तेमाल दवाओं से लेकर Space Technology तक में किया जा रहा है।