29 Apr : The man who gave identity to God

Ravivarma1.png

It’s difficult to believe on something you can’t see. Same could have been the case with God. But thanks to renowned artist Raja Ravi verma, the man who gave identity to God… The man who gave face to God.

A depiction adopted not only by the Indian “calendar-art”, but also by literature and later by the Indian film industry- affecting their dress and form even today.

Raja_Ravi_Varma,_There_Comes_Papa_(1893).jpgRani_Bharani_Thirunal_Lakshmi_Bayi_of_Travancore_(1848–1901).jpg

Born today in 1848, he was a painter by birth and got his initial training from his uncle Raja Raja Verma. Later he learnt water colour painting from the palace artist Rama Swamy Naidu. He learnt oil painting from the British artist Theodor Jenson.

Murugan_by_Raja_Ravi_Varma.jpgSaraswati.jpg

In 1894, Ravi Varma set up a printing press in Mumbai. The press used a printing technique called oleography and produced thousands of copies of his paintings. Soon, people all over the country had bought them and many even worshipped the gods and goddesses in the paintings. Same is the condition even today.

Ravi_Varma-Ravana_Sita_Jathayu.jpgRavi_Varma-Princess_Damayanthi_talking_with_Royal_Swan_about_Nala.jpg

#Hindi 
कहते हैं दुनिया को चलाने वाला भगवान है… फिर सवाल ये भी उठता है कि भगवान को किसी ने देखा है ? और अगर नहीं तो ये मूर्तियां, ये फोटो, ये आकृतियां कहां से आईं ? दरअसल ये कमाल है एक कलाकार का… राजा रवि वर्मा… यूं तो वो बेहतरीन चित्रकार थे… लेकिन उनकी सबसे अच्छी कृति रही भगवान को चेहरा देना… पहचान देना… आज आप भगवान का जो भी रूप देखते हैं… उन्हें जिस रूप में भी पूजते हैं… वो सब राजा रवि वर्मा की ब्रश का कमाल है… 1848 में आज ही के दिन वो पैदा हुए थे… बचपन से ही कला की तरफ उनका रुझान था… उन्होंने अपने चाचा राजा राजा वर्मा से चित्रकारी के गुण सीखे… पानी के रंगोॆ से चित्रकारी करना उने्होंने रामा स्वामी नायडु से और ऑयल पेंटिंग ब्रिटिश कलाकार थियोडर जेन्सन से सीखी थी… 1894 में राजा रवि वर्मा ने एक प्रिंटिंग प्रेस लगाई… इसके ज़रिए उन्होंने अपनी पेंटिंग्स की छपाई शुरु की… लोगों ने उनकी बनाई पेंटिंग्स खरीदी और लोगों ने उनके बनाए भगवान के चेहरों की पूजा करना शुरु कर दिया… इस तरह भगवान की तस्वीरें पूजने का सिलसिला आज भी जारी है…

Raja_Ravi_Varma,_Gypsies_(1893).jpgRaja_Ravi_Varma,_Galaxy_of_Musicians.jpg