2 Apr : India won the World of Cricket ‘again’

Unknown-2Unknown-1Unknownimages

Tears in eyes and smiles on face… that’s real celebration.
Team India did this for the second time. After 1983 win, it was a dream come true for India. It’s 7 years today, but the warmth of this win will remain forever.

World cup trivia
1. The first country to win the Cricket World Cup final on home soil.
2. This was the first time in World Cup history that two Asian teams had appeared in the final.
3. It was also the first time since the 1992 World Cup that the final match did not feature Australia.
4. India’s Yuvraj Singh was declared the man of the tournament.
5. Yuvraj Singh had the highest batting average.
6. Sachin Tendulkar made the most runs for India in the tournament and registered the highest impact because of his runs tally.
7. Sachin has featured in five World Cups since 1992, and has virtually every batting record under his belt but a world title was missing before this win.
8.. Team India gifted the World cup win to Sachin Tendulkar as it was his last World cup. Sachin had probably all records
9. Virat Kohli absorbed the most pressure for India right through the tournament. He came under pressure thrice during the tournament and he had a 100% absorption rate.

#Hindi
भारत के लिए क्रिकेट ऐसा खेल है जिसके लिए एक भारतीय अपना तन, मन, धन सब कुछ अर्पण कर सकता है। जिस दिन क्रिकेट मैच की तारीखें सार्वजनिक की जाती हैं, उसी दिन से दफ्तर से छुट्टी लेने के बहाने सोचने शुरु कर दिए जाते हैं। और अगर किसी वजह से छुट्टी नहीं मिली तो दफ्तर में क्रिकेट के स्कोर की फिक्र ज़्यादा और काम के स्कोर की फिक्र कम होना लाज़मी है… आखिर आज भारत का मैच है भई…!
खैर, मज़ाक की बात अलग है लेकिन आज का दिन सचमुच ऐसा है जिस दिन सारे काम छोड़कर क्रिकेट को सेलिब्रेट करना चाहिए। आज के दिन भारत ने क्रिकेट वर्ल्ड कप अपने नाम किया था। भारत के लिए ये दूसरी बार था लेकिन खुशी और उत्साह पहली बार से कुछ कम नहीं था। भारत पहला ऐसा देश है जिसने अपनी ही ज़मीन पर वर्ल्ड कप अपने काम किया।
ये वर्ल्ड कप क्रिकेटर्स से लेकर क्रिकेट प्रेमियों तक के लिए इसलिए भी खास था क्योंकि ये क्रिकेट के भगवान यानी सचिन तेंदुलकर के लिए आखिरी वर्ल्ड कप होता। पूरी क्रिकेट टीम ने क्रिकेट को अपना पूरा जीवन देने वाले और दुनिया भर के रिकॉर्ड्स अपने नाम करने वाले सचिन तेंदुलकर को ये वर्ल्ड कप समर्पित किया। ये ऐसा मौका था जिसने हर भारतीय के मन में वर्ल्ड कप की जीत को और खास बना दिया।