19 March : ‘History’ shot with the help of first ‘camera’


Today is a landmark day in the history of Cinema. Today in 1895, first time a film was shot with the help of cinematograph, a motion picture film camera, which also serves as a film projector and printer.

cinematographecamera.jpg

In 1895 Auguste and Louis Lumière shot the first footage.

The film, La Sortie des usines Lumière à Lyon (Workers Leaving the Lumière Factory in Lyon), was a 46-second-long, black-and-white, silent documentary. It is a single scene in which workers leave the factory. 

A cinematograph is inspired by Thomas Alva Edison’s Kinetoscope.

The cinematograph could be projected onto a screen to be viewed by a large audience of people simultaneously.

While Edison’s kinetoscope would permit only one person to view moving pictures at a time, the cinematograph system allowed more than one person to watch a film at the same time and thus raised the level of enjoyment.

Unlike Edison’s bulky camera, which could only be used in a studio, the Lumière machine was light and suitable for outdoor use.

Cinematograph reduced the frames-per-second speed from Edison’s 48 to 16, so it used less film and operated more smoothly than the Edison camera.

lumic3a8re-1-222x300.jpg
#Hindi
फिल्म निर्माण इन दिनों तकनीकों की मदद से काफी आसान है। लेकिन एक समय था जब फिल्म निर्माण के बारे में सोचना भी मुश्किल था। उस मुश्किल दौर में अगस्टस और लुइस ज्यां ल्यूमियरे ने सिनेमैटोग्राफ की मदद से पहली बार कुछ फुटेज रिकॉर्ड की थी। वो फुटेज आप ऊपर मौजूद लिंक को क्लिक करके देख सकते हैं। उन्होंने साल 1895 में सिनेमैटोग्राफ मोशन पिक्चर कैमरा का आविष्कार किया था ।ल्यूमियरेज सिनेमैटोग्राफ 12 फ्रेम प्रति सेकेंड की स्पीड पर प्रोजेक्ट कर सकता है। इस वीडियो फुटेज रिकॉर्डिंग ने फिल्म निर्माण के क्षेत्र में क्रांति का काम किया। धीरे-धीरे ये तकनीक लोगों के बीच प्रचलित होती चली गई और वक्त के साथ इसका रूप बदलता चला गया। शुरुआत यहां से हुई थी और आज के सिनेमा के रूप में इसका अंजाम आपके सामने है।